०० ग्राम खैरखुंडी के पहाड़ से भारी मात्रा में विस्फोटको का इस्तेमाल कर किया जा रहा है ब्लास्टिंग

०० रतनपुर तहसीलदार, थाना प्रभारी एवं जिला खनिज अधिकारी नहीं कर रहे अवैध ब्लास्टिंग के खिलाफ कार्यवाही

०० मेसर्स राधेश्याम अग्रवाल के नाम से है खनन की अनुमति मगर पहाड़ी पर ब्लास्टिंग है अवैध

बिलासपुर| रतनपुर क्षेत्र के ग्राम खैरखुंडी से लगे पहाड़ पर सड़क निर्माण में लगे ठेकेदार द्वारा अवैध रूप से ब्लास्टिंग कर पत्थर निकाला जा रहा है, पत्थर निकालने में ब्लास्टिंग का इस्तेमाल किये जाने की वजह से ग्रामीणों के घरो में दरार आ गयी है वही कई तरह की समस्याए ग्रामीणों को है इस मामले में ग्रामीणों द्वारा रतनपुर तहसीलदार, थाना प्रभारी सहित जिला खनिज अधिकारी से शिकायत कर कार्यवाही की मांग कर चुके है बावजूद इसके पहाड़ी पर हो रहे ब्लास्टिंग पर किसी भी तरह की कार्यवाही नहीं हो रही है| इस मामले में उच्चन्यायालय में याचिका लगायी गयी थी जिसमे प्रशासन को आदेशित किया गया है कि उक्त मामले की जांच उपरांत विधिसम्मत कार्यवाही किया जाए मगर पुलिस व स्थानीय प्रशासन द्वारा मामले में कार्यवाही नहीं किया जा रहा है|

जिले के रतनपुर क्षेत्र में ग्राम खैरखुंडी के पास 300 मीटर की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 130 का निर्माण कार्य चल रहा है जिसके ठेकेदार द्वारा सड़क निर्माण के लिए अवैध रूप से पत्थरों के लिए पहाड़ी में भारी मात्रा में विस्फोट कर पत्थरे निकाली जा रही है| ठेकेदार की मनमानी से ग्रामीणों को समस्याए हो रही है जिसमे प्रमुख रूप से पहाड़ी में विस्फोट होने से घर की दीवारों पर दरारे उभर आई है जिसे मकान कभी भी क्षतिग्रस्त होने का भय लगा हुआ है, विस्फोट होने से क्षेत्र में वायु एवं ध्वनि प्रदुषण हो रहा है| पहाड़ के समीप खेतो में छोटे-छोटे पत्थर (गिट्टी-बोल्डर) गिर रहे है जिससे भूमि की उपजाऊ क्षमता नष्ट हो रही है| भारी मात्रा में विस्फोट होने से जन-जीवन प्रभावित हो रहा है साथ ही पशु-पक्षियों की बेसमय मृत्यु हो रही है| ग्राम खैरखुंडी के ग्रामीणों ने इस मामले को लेकर जिला कलेक्टर, खनिज अधिकारी सहित रतनपुर पुलिस से भी शिकायत की गयी लेकिन ठेकेदार के खिलाफ किसी भी तरह की कार्यवाही नहीं की गयी जिससे ग्रामीणों में आक्रोश व्यापत है|

उच्च न्यायालय के आदेश की हो रही है अवहेलना :-  ग्राम खैरखुंडी से लगे पहाड़ से सड़क निर्माण में लगे ठेकेदार द्वारा विष्फोटक लगाकर पत्थर निकालने के मामले को लेकर उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गयी थी जिसमे न्यायालय द्वारा उक्त मामले के सम्बन्ध में जिला प्रशासन को जांच करने व जांच में दोषी पाए जाने पर विधिसम्मत कार्यवाही किये जाने का आदेश दिया था लेकिन पुलिस एवं प्रशासन द्वारा इस मामले में किसी भी तरह की कार्यवाही नहीं की जा रही है जिसके चलते क्षेत्र के ग्रामीणों का जीवन नारकीय हो गया है व ग्रामीण इस मामले में प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रहे है|