यदि आपके जोड़ों में दर्द रहता है आगे चलकर हड्डियों की मजबूती खोने का डर है, तो अपने खाने में बाजरे और रागी के आटे को जरूर शामिल करें। इनके सेवन से आस्टियोपोरोसिस रोग नहीं होता और न ही हड्डियां कमजोर होती हैं।अपने स्वास्थ्य को लेकर आमतौर पर बहुत से लोग सचेत रहते हैं। फिटनेस प्रेमी अपने आहार में पोषक तत्वों से भरपूर अनाज शामिल करते हैं। रागी, बाजरा और कुट्टू के आटे में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। ये अनाज अब लोगों के रसोई का हिस्सा बनने लगे हैं।

इन भारतीय अनाजों में प्रोटीन, डायटरी फाइबर, विटामिन और आवश्यक पोषक तत्व मौजूद होते हैं। ये वजन घटाने से लेकर संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। बाजरा कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होता है, जो पाचन को सुधारने में मदद करता है। रागी और बाजरा जैसे प्राचीन अनाज हड्डियों को भी मजबूत बनाने में मदद करते हैं और जोड़ों की समस्या को दूर करते हैं। आइए जानते हैं रागी और बाजरा की रोटी के फायदे।

सेहत के लिए बाजरा और रागी के फायदे

न्यूट्रिशनिस्ट के अनुसार, जोड़ों की समस्या से पीड़ित लोग अपने आहार में अधिक अनाज शामिल न करने की सलाह देते हैं। हालांकि इस मामले में बाजरा अपवाद है। इसमें अधिक मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो हड्डियों के लिए फायदेमंद होते हैं और जोड़ों की समस्या को दूर करने में मदद करते हैं।